Saturday, May 28, 2022
Homeजरा हटकेइंजीनियरों ने बनाई ऐसी डिवाइस शराब पी तो नहीं होगी गाड़ी स्टार्ट

इंजीनियरों ने बनाई ऐसी डिवाइस शराब पी तो नहीं होगी गाड़ी स्टार्ट

इंजीनियरों ने बनाई ऐसी डिवाइस शराब पी तो नहीं होगी गाड़ी स्टार्ट

शराब पीकर गाड़ी चलाने से आये दिन हादसे होते रहते है जिसमे कई बार तो किसी बेकसूर की जान भी चली जाती है शराब पीकर गाड़ी चलाने को लेकर नये नये कानून भी बनते है जुर्माने भी लगते है पर फिर भी शराब पीने वाले अपनी हरकतों से बाज नहीं आते है तो इसी को कण्ट्रोल करने के लिए इंजनियरिंग के 3 छात्रों ने एक गजब का डिवाइस तैयार किया है जिससे अगर कोई शराब पीकर गाड़ी स्टार्ट करेगा तो गाड़ी स्टार्ट ही नहीं होगी धनबाद के तीन इंजनियर अजीत यादव ,सिद्धार्थ सुमन ,मनीष बलमुचू ने जिस तकनीक का विकास किया है और इस तकनीक का नाम ह्यस्मार्ट सेफ्टी सिस्टम अगेंस्ट अल्कोहल इन व्हीकल- एसएसएसएएवी (Hysmart Safety System Against Alcohol in Vehicle- SSSAAV) रखा है इसके तहत एक ऐसी डिवाइस बनाई गयी है, जिसे ड्राइविंग सीट के सामने लगाया जाता है. ये ऐसी डिवाइस है जो ड्राइविंग सीट पर बैठने वाले इंसान की सांस को सेंसर के जरिए पकड़ लेती है.और अगर ड्राइवर ने शराब पी रखी है तो ये डिवाइस गाड़ी को स्टार्ट ही नहीं होने देती है .और अगर किसी ने चालाकी की और गाड़ी को किसी और से स्टार्ट करा लिया या पहले स्टार्ट कर लिया तो भी शराब पीकर जैसे ही कोई ड्राइविंग सीट पर बैठेगा गाड़ी बंद हो जाएगी.

ये भी पढ़ें- गजब ! फ्रिज और बर्फ का झंझट ही ख़त्म अब बेल्ट करेगा पानी को ठंडा

डिवाइस को बनाने वाले तीनों इंजीनियर बीसीसीएल में काम करते हैं. और उन्होंने काफी रिचर्स के बाद देखा की कोयला क्षेत्र में ट्रांसपोर्टिंग करने वाली गाड़ियों की दुर्घटनाओं में ज्यादातर मामले ड्राइवर के शराब के नशे में होने के कारण होते है जो एक बहुत बड़ी समस्या है जिससे उन्होंने निश्चय किया कि कोई ऐसी तकनीक विकसित की जाए, जिससे शराब पीकर गाड़ी चलाने वाले को रोका जा सके और वो अपने मकसद में कामयाब भी रहे और ऐसी डिवाइस बना दी और अब वो चाहते है की इस डिवाइस को जल्दी से गाड़ियों में लगाया जाये जिससे हादसों में कमी आये कोल इंडिया की अनुषंगी कंपनी BCCL (भारत कोकिंग कोल लिमिटेड) की वार्षिक सुरक्षा प्रदर्शनी में इस तकनीक का प्रदर्शन भी किया जा चुका है.बीसीसीएल के पूर्वी क्षेत्र के जीएम एसएस दास ने कहा कि इस डिवाइस को आगे के परीक्षण के लिए डीजीएमएस (डायरेक्टर जेनरल माइंस सेफ्टी) के पास भेजा जाएगा. और अगर इसमें कोई परेशानी नहीं आई तो इससे अप्रूवल के बाद इस्तेमाल करने की दिशा में कदम उठाया जायेगा.

ये भी पढ़ें- मात्र 370 रूपए में बिना लाइट चलने वाला पंखा वो भी फोल्डेबल डिज़ाइन के साथ

Nandini Yadav
Nandini Yadav
I am Nandini Yadav living in Jaipur,I have created this space to share my knowledge experience and love on all thing Beauty,Fashion,Travel and Lifestyle.View Complete Profile

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read