Thursday, December 8, 2022
Homeजरा हटकेगजब ! अब मरने के बाद भी इंसान इस तकनीक से जिन्दा...

गजब ! अब मरने के बाद भी इंसान इस तकनीक से जिन्दा किया जा सकेगा, इसके लिए देने होंगे इतने रूपए

गजब ! अब मरने के बाद भी इंसान इस तकनीक से जिन्दा किया जा सकेगा, इसके लिए देने होंगे इतने रूपए

मरे हुए इंसान को जिन्दा करना– डेली स्टार की रिपोर्ट की माने तो स्कॉट्सडेल, एरिज़ोना, यूएसए में स्थित एल्कोर फर्म ने क्रायोनिक्स के क्षेत्र में खुद को एक अग्रसर कंपनी के रूप में स्थापित किया है। ये ऐसी तकनीक है जिससे मरने के बाद इंसान के शरीर को फ्रीज कर दिया जाता है जिसके लिए ये कहा जा रहा है की इसमें मरे हुए इंसान को फिर से जीवित किया जा सकता है.

Table of Contents
वाशिंगटन
जानिए अमेरिकी कंपनी ने कौनसा प्लान लांच किया है
मृत शरीर को फ्रीज करने की फीस 15 करोड़ रूपए है
कंपनी के सीईओ ने कहा है की बीमा कंपनी इसके पैसे देगी
अब तक 184 मरीजों के शवों को फ्रीज किया गया है

दुनिया में अधिकतर ऐसे इंसान मिल जायेंगे जो अमर रहना चाहते है पर ये आज तक सम्भव नहीं था लेकिन अब वैज्ञानिको ने इसका भी तोड़ निकाल लिया है जिससे मरे हुए इंसान को फिर से जीवित किया जा सकेगा हालांकि इसके लिए एक मोटी रकम देनी होगी जिसके बदले इंसान जब तक चाहे जीवित रह सकेगा स्कॉट्सडेल, एरिज़ोना, यूएसए में स्थित एल्कोर फर्म ने क्रायोनिक्स के क्षेत्र में खुद को स्थापित किया है ये एक ऐसी तकनीक है जिसमे मरने के बाद इंसान के शव को फ्रीज़ करके जिन्दा किया जा सकता है कानूनी मौत के बाद इंसान की लाशों के दिमाग को लिक्विड नाइट्रोजन से भरकर फ्रीज कर दिया जायेगा उम्मीद की जा रही है कि इन लाशों को किसी खास तकनीक से जिंदा किया जायेगा.

ये भी पढ़ें- जिसके प्यार में लड़के से लड़की बना वही अब किन्नरों के हवाले करना चाहता है

मृत शरीर को फ्रीज करने के बदले 15 करोड़ रूपए
एल्कोर फर्म ने पूरे शरीर को फ्रीज करने के बदले $ 2 मिलियन का शुल्क निर्धारित किया है जो भारतीय रुपए के हिसाब से करीब 15,52,29,000.00 करोड़ रुपए है यह राशि एक बार में ही देनी होगी। कंपनी ने मौत के बाद हर साल सुरक्षा के लिहाज से 705 डॉलर की फीस भी रखी गयी है। एक न्यूरो रोगी के लिए एकमुश्त शुल्क की राशि $80,000 है। इसमें मरीज को दिया गया दिमाग ही सुरक्षित रहेगा.

कंपनी के सीईओ ने तारीफ की है , जिसमे पैसे बीमा से मिलने की बात कही है
कंपनी के ब्रिटिश सीईओ मैक्स मोर ने कहा है कि यह प्रक्रिया वास्तव में बहुत से लोगों के लिए बहुत ज्यादा महंगी है ज्यादातर लोग यही सोचते हैं कि ये बहुत ज्यादा किफायती है और 80 हजार डॉलर तो मेरे पास नहीं हैं। कम्पनी सीईओ ने एक छात्र की तरफ से कहा है की जब मैने ये यह पॉलिसी ली थी तो मेरे पास इतने पैसे नहीं थे मैंने इंग्लैंड में एक छात्र के रूप में इससे साइनअप किया था, मैं बहुत गरीब था लेकिन हमारी टीम में कई लोगों ने जीवन बीमा राशि से इस पॉलिसी की फीस को चुकाया है जिसमे कहा गया है की बीमा की राशि से भी पैसा मिलेगा.

ये भी पढ़ें- Pregnancy पर बने इस ऐड के चर्चाओं में रहने के पीछे क्या है खास वजह

अब तक देखे तो 184 मरीजों के शवों को फ्रीज किया गया है
उन्होंने आगे कहा है की अल्कोर में वर्तमान में 1,379 सदस्य हैं, जिनमें 184 लोग भी शामिल हैं जिनकी मृत्यु हो चुकी है और उनके शरीर को क्रायोनिक प्रक्रिया के अधीन रखा गया है परिवार के पहले सदस्य की बात करे तो इसके लिए सदस्यता योजना शुल्क की राशि $660 प्रति वर्ष रखी गयी है। जिसमें उस परिवार के 18 साल से ऊपर के हर रिश्तेदार के लिए करीब 50 फीसदी की छूट रखी गयी है.

Nandini Yadav
Nandini Yadav
I am Nandini Yadav living in Jaipur,I have created this space to share my knowledge experience and love on all thing Beauty,Fashion,Travel and Lifestyle.View Complete Profile

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read